Feb 19, 2013

मेरे समय की औरतें


लड़कियां फुटबाल की तरह उछल कर खेल लेतीं हैं इन दिनों
और अपने सीने में सीलन को दबाए
मुस्कुरा भी लेती हैं 

लड़कियों के पास अब अपना एक आसमान है

अपनी पगडंडी
अपनी कुटिया
अपनी हंसी
अपना दुपट्टा

समय के साथ बदल गई हैं लड़कियां
कालेज के बार भेलपूरी खाते हुए
यहां-वहां झांकतीं नहीं वे

खुश रहने लगी हैं लड़कियां
अपमान पी गईं हैं लड़कियां

हां, बदल गईं हैं लड़कियां

बादलों के बीच  

हर औरत लिखती है कविता
हर औरत के पास होती है एक कविता
हर औरत होती है कविता
कविता लिखते-लिखते एक दिन खो जाती है औरत
और फिर सालों बाद बादलों के बीच से
झांकती है औरत

सच उसकी मुट्ठी में होता है
तुड़े-मुड़े कागज –सा
खुल जाए
तो कांप जाए सत्ता

पर औरत
ऐसा नहीं चाहती

औरत पढ़ नहीं पाती अपनी लिखी कविता
पढ़ पाती तो जी लेती उसे

इसलिए बादलों के बीच से झांकती है औरत
बादलों में बादलों सी हो जाती है औरत

No comments: