Jun 25, 2008

मैं और मेरे टीचर

परी- यही नाम है उसका
बस एक झलक पाते ही मन में बारिश की फुहार हो जाती है।

परी कुछ नहीं मांगती
हमारी तरह मांग के कटोरे लेकर फिरना शायद उसकी फितरत ही नहीं।

परी पिंजरे के निचले हिस्से में सोती है
राजा ऊपरी हिस्से में झूले पर

राजा सोकर उठता है
परी को हौले अपने पांव से ठोकर देता है, उसे जगाता है
जतलाता है कि ये मर्दाना अधिकार की बात तो वह भी जानता है !

लेकिन परी और राजा जब गाड़ी की अगली सीट पर बैठते हैं
तो अठखेलियां खाते पिंजरे में डर जाते हैं
एक ही झूले पर बैठकर लग जाते हैं- एक- दूसरे के गले
संकट में साथ के मायने दोनों जानते हैं।

लेकिन ताज्जुब
घर में दिनभर अकेले अपने पिंजरे में बंद दोनों जाने क्या सोचते हैं!

मैनें उनके पिंजरे के नीचे नरम घास का बिछौना बना दिया है
उन्हें यह मखमली कुदरती बिछौना बहुत पसंद भी आया है

परी मेरी बेटी नहीं है
राजा दामाद नहीं है
लेकिन मैनें मन ही में करा दी है उनकी शादी।
अकेले नहीं रखना चाहती थी मैं परी को
जानती हूं अकेली को निगल लेती है दुनिया।

दोनों इंसान नहीं हैं
लेकिन फिर भी हैं तो दो फुदकते जीव
दोनों तो बस आंखों की पलकों में बस गए हैं।

आप चाहें तो उन्हें तोता कह सकते हैं
आपकी आंखों को वे तोते ही दिखेंगें
लेकिन मेरे लिए तो वो मेरे सपनों का उड़नखटोला हैं
मेरे अपने पंख हैं
उनके पास मेरी बात सुनने का वक्त है
और मन भी!

मेरे लिए वो एक परी है
और पिंजरे के ऊपरी झूले में बैठकर अपनी चोंच से परी को सहलाने वाला एक राजा।

नहीं - मुझे अभी उन्हें आकाश में नहीं छोड़ना।
ये मेरे कमरे में ही फुदकेंगें
मेरे आंगन में चहकेंगें
कैसे छोड़ दूं दो महीने के इन जीवों को बाहर की दुनिया में
हम करेंगे आपस में बातें
पिंजरे के अंदर के जीव और पिंजरे के बाहर के इंसान की

मैं जानती हूं ये मेरे स्कूल के पहले टीचर हैं और
अभी तो हमारा सफर शुरू ही हुआ है।

Jun 21, 2008

यह ब्रेकिंग न्यूज़ नहीं है

नाग-नागिनों और आरूषि की खबरों के बीच किसे पड़ी है कि यह देखे कि श्री लाल शुक्ल का पद्मभूषण आखिर गया कहां। मामला रोचक है लेकिन चूंकि यह यह ब्रेकिंग न्यूज नहीं है, इसलिए इसे विशेष गंभीरता से पढ़ना जरूरी नहीं है। ख़बर सिर्फ इतनी है कि हिन्दी कथाकार -व्यंगकार श्रीलालशुक्ल को राष्ट्रपति के हाथों पद्मभूषण दिया जाना था।सेहत ठीक न होने के वजह से वे दिल्ली नहीं आ पाए तो तय हुआ कि पद्मभूषण उनके घर हीपहुंचा दिया जाए।लिहाजा राष्ट्रपति की एक अधिकारी पद्मभूषण समेट रेलगाड़ी में रवाना हुईं।

कहानी यहीं से शुरु होती है- पद्मभूषण दिल्ली से चलता है और रेल गाड़ी के उस डिब्बे से चोरी हो जाता है जिसमें वह महिला अधिकारी सफर कररही थीं। घटना के बाद दिल्ली से ही छपने वाले एक बड़े समाचार पत्र के हिंदी और अंग्रेजी संस्करण ने इस पर एक स्टोरी की। लेकिन इसके अलावा इस घटना का कहीं कोई जिक्र दिखाई नहीं दिया। यहां तक कि इस लेख के लिखे जाने तक इंटरनेट पर भी यह घटना नदारदही दिखाई दी। जाहिर है कि हमारी पत्रकार बिरादरी के ज्यादातर लोग पिछले एक महीने से राष्ट्रीय महत्व की खबर आरूषि के आस-पास मंडराने और अंधेरे में तीर चलाने में व्यस्त रहे हैं। टीवी चैनलों को इतने दिनों बाद ऐसी सनसनीखेज खुराक मिली कि उन्हें हफ्तों कुछ नया कर दिखाने के प्रकोप से शांति मिली। ऐसे में एक लेखक को मिलने वाला पदक रास्ते से कहीं छूमंतर हो जाता है तो भला उसकी कौन परवाह करता है। हां, अगर किसी बड़े अफसर का कुत्ता इस तरह गुम गया होता तो अच्छा-खास हंगामा खड़ा कर दिया जाता।

लेकिन क्या इसका यह मतलब निकाल लिया जाए कि श्रीलाल शुक्ल का प्रस्तावित सम्मान पदक खो जाना छोटी बात थाया राष्ट्रीय महत्व से परे की चीज था? श्री लाल शुक्ल यानि बीस किताबों के ज्यादा के लेखक और राजदरबारी के रचेयता। उन्होंने अपना जीवन एक तरह से साहित्य-सृजन में ही लगा दिया लेकिन शायद साहित्य-सृजन अब समाज की वैसी सम्मानजनक पदवी नहीं रहा जो कभी रहा करता था। यही कारण है कि दिल्ली जैसे तमाम महानगरों में बरसों पहले लेखकों की जो बैठकें लगा करती थीं, वे इतिहास हो गईं है। मोहन राकेश के उपन्यासों में कनाट प्लेस के जिस काफी होम का जिक्र मिलता है और रीगल सिनेमा के ऊपर वाले हिस्से में भी बरसों जो लेखकों का स्थायी पता-ठिकाना बना रहा, वह भी अब सूख चला है। अब कवि-लेखकअतीत का हिस्सा बनने के काफी करीब चले आए हैं। बाहरवाले तो दूर की बात, अपने घर में भी लेखक का जो थोड़ा-बहुत रसूख हुआ करता था,वह अब हवा होने लगा है। ऐसे में लेखक या तो अतीत के झरोखे से लगातार झांकने का काम करें यो फिर कुछ टीवी वालों से थोड़ी दोस्ती गांठ कर टीवी पर मस्खरी केनाटक करें और महफिलें सजाएं। अगर किस्मत अच्छी रहे तो चुनावी माहौल में भी थोड़ी फसल काटी जा सकती है। लेकिन अगर यह भी बस का नहीं तो फिर लेखक होने की डफली खुद अकेले बजानी भी होगी और सुननी भी।

सवाल गहरे हैं और इन पर गंभीरता से विचार करने के लिए जिस ईमानदारी की जरूरत हो सकती है, वह शायद हमारी बिरादरी में अब थोड़ी कम ही हुई है। मामला सिर्फ ये नहीं है कि इतना सम्मानित पदक गाड़ी से किसने, क्यों, कब और कैसे चुराया,मामला यह है कि तमाम सरकारी टोटकों और नाटकों के बावजूद आज भी इस देश के हिंदी वालों की स्थिति काफी हद तक वही है जो पहले थी। अपवाद हिंदी टीवी चैनल हैं जिनकी वजह से ठेठ अंग्रेजीदां भी हिंदी बोलने और सीखने के लिए मजबूर हो गए हैं । लेकिन इसके बावजूद कवि-लेखकों की दुनिया में आज भी कोई खास बदलाव नहीं आ पाया है।खुद को बेहद आदर्शवादी मानने वाले युवा भी खुद को कवि या लेखक कहलाए जाने से परहेज करने लगे हैं। सच यही है कि इलेक्ट्रानिक मीडिया की छवि खासतौर से लेखनी की दुनिया के आस-पास नहीं हैं।

इस मामले ने सरकारी नजरिए की भी काफी हद तक मार्मिक पोल खोल दी है।हाल ही में नेहरू युवा केंद्र ने दिल्ली स्थित तीन मूर्ति में युवा कवियों का काव्य पाठ और पुरस्कार वितरण समारोह करवाया। तमाम अखबारों केरोजाना की गतिविधियों के कालम में इस आयोजन की सूचना भी छपी लेकिन इसे कवर करने पहुंचे सिर्फ मुट्ठी भर चैनल।इस पर हैरानी जताई सकती है कि जिस जमाने में एक सरकारी चैनल हुआ करता था, तब टीवी पर ऐसे आयोजन खूब दिखते थे। अब चैनल बढे़ हैं, चौबीसों घंटे चलाने की आजादी और मजबूरी भी बढ़ी है फिर भी ऐसे आयोजनों की कवरेज काफी सिमट गई है।

जिन दिनों अमृता प्रीतम बीमार थीं, प्रिंट मीडिया ने आने वाली खबर को दिमाग में रखते हुए अपने लिए पेज पहले से ही सोच कर रख लिए, सामग्री जुटा ली गई और जरूरत पढ़ते ही उन पन्नों को तल्लीनता से लगा दिया गया। लेकिन इलेक्ट्रानिक मीडिया यहां भी काफी हद तक चूक गया।हां, हरिवंश राय बच्चन के समय ऐसा नहीं हुआ।शायद इसलिए नहीं कि वे मधुशाला के रचेता थे बल्कि इसलिए कि उनका बेटा अमिताभ था और बहू जया।

बहरहाल पद्मभूषण तो मिलने से रहा। नए का इंतजाम शायद जल्द हो जाए लेकिन इससे कुछ संकेत जरूर मिलते हैं।सोचना होगा- महफिलों का दौर सूख चुका, लेखकों की पुरानी पीढ़ी का सूर्यास्त करीब है। ऐसे में जो नई सुबह हमें मिलेगी, वह क्या लेखकों और कवियों के सान्निध्य से परे होगी?

( यह लेख ७ जुलाई, २००८ को 'जनसत्ता' में प्रकाशित हुआ)

Jun 10, 2008

टीवी एंकर और वो भी तुम

किसने कहा था तुमसे कि
पंजाब के गांव में पैदा हो
साहित्य में एम ए करो
सूट पहनो
और नाक में गवेली सी नथ भी लगा लो

बाल इतने लंबे रखो कि माथा छिप ही जाए
और आंखें बस यूं ही बात-बिन बात भरी-भरी सी जाएं।

किसने कहा था दिल्ली के छोटे से मोहल्ले में रहो
और आडिशन देने बस में बैठी चली आओ
किसने कहा था
बिना परफ्यूम लगाए बास के कमरे में धड़ाधड़ पहुंच जाओ
किसने कहा था
हिंदी में पूछे जा रहे सवालों के जबाव हिंदी में ही दो
किसने कहा था कि ये बताओ कि
तुम्हारे पास कंप्यूटर नहीं है
किसने कहा था बोल दो कि
पिताजी रिटायर हो चुके हैं और घर पर अभी मेहनती बहनें और एक निकम्मा भाई है
क्यों कहा तुमने कि
तुम दिन की शिफ्ट ही करना चाहती हो
क्यों कहा कि
तुम अच्छे संस्कारों में विश्वास करती हो
क्यों कहा कि तुम
' सामाजिक सरोकारों ' पर कुछ काम करना चाहती हो

अब कह ही दिया है तुमने यह सब
तो सुन लो
तुम नहीं बन सकती एंकर।

तुम कहीं और ही तलाशो नौकरी
किसी कस्बे में
या फिर पंजाब के उसी गांव में
जहां तुम पैदा हुई थी।

ये खबरों की दुनिया है
यहां जो बिकता है, वही दिखता है
और अब टीवी पर गांव नहीं बिकता
इसलिए तुम ढूंढो अपना ठोर
कहीं और।
(यह कविता 'हंस' के जुलाई अंक में प्रकाशित हुई है)

एक मामूली औरत

आंखों के छोर से
पता भी नहीं चलता
कब आंसू टपक आता है और तुम कहते हो
मैं सपने देखूं।

तुम देख आए तारे ज़मी पे
तो तुम्हें लगा कि सपने
यूं ही संगीत की थिरकनों के साथ उग आते हैं।

नहीं, ऐसे नहीं उगते सपने।

मैं औरत हूं
अकेली हूं
पत्रकार हूं।

मैं दुनिया भर के सामने फौलादी हो सकती हूं
पर अपने कमरे के शीशे के सामने
मेरा जो सच है,
वह सिर्फ मुझे ही दिखता है
और उसी सच में, सच कहूं,
सपने कहीं नहीं होते।

तुमसे बरसों मैनें यही मांगा था
मुझे औरत बनाना, आंसू नहीं
तब मैं कहां जानती थी
दोनों एक ही हैं।

बस, अब मुझे मत कहो
कि मैं देखूं सपने
मैं अकेली ही ठीक हूं
अधूरी, हवा सी भटकती।

पर तुम यह सब नहीं समझोगे
समझ भी नहीं सकते
क्योंकि तुम औरत नहीं हो
तुमने औरत के गर्म आंसू की छलक
अपनी हथेली पर रखी ही कहां?

अब रहने दो
रहने दो कुछ भी कहना
बस मुझे खुद में छलकने दो
और अधूरा ही रहने दो।

Jun 7, 2008

Female News Anchors in MMS ?

टेलीविजन चैनलों के अंदर और बाहर की बातों पर यह लेख वर्ष 2005 में लिखा गया था और उसी समय छपा था लेकिन इसकी प्रासंगिकता बनी हुई है.
 
 
 
As you sow, so you reap. I was reminded of these age-old words of wisdom when two disgraceful incidents related to television reached my ears. One day, during my recent visit to Central Production Centre of Doordarshan, I got a call from one of my friends in NDTV wanting to share a juicy story.
 
He whispered, "An MMS carrying 'hot pictures' of three female anchors (from three different news channels) is being circulated in the Delhi's under-market." Ironically, all three girls are Delhi-based and well-known television faces.
 
Naturally, the MMS has already been viewed by a large number of journalists in the city. These girls are red with embarrassment and one has reportedly even left the city to save face.
 
The second incident is no less thought provoking. India TV - always on the lookout for slime and sleaze - rehashed an old footage of Govinda meeting Dawood as a breaking news and cried foul the day through.
 
The story hit the actor-politician Govinda hard and he was found defending his position in media. To stretch the breaking-news further perhaps, India TV contacted Govinda to have his latest take under the garb of taking his version in the form of an interview.
 
Govinda found this as a good opportunity to hit back when he learnt that the intended interview would be live and the interviewer Rajat Sharma himself.
 
Soon after the interview started, Govinda countered Rajat with the unimaginably embarrassing personalised counter-questions about his personal credibility and character.
 
The viewers had a hearty laugh combined with sadistic pleasure. The channel chief had a tough time hiding his sweat. Both these incidents became the talk of the media circle and TV journalists were stumped, not knowing what to do.
 
I have not seen even a single word written on this issue so far. Some of them wondered who will write about it and how? And when my friends from various media houses urged me to pen down the same in one of my columns, I reflected on the entire episode.
 
What concerned me the most was to see the attitude change amongst the mud-throwers when some of them stood drenched publicly. The other side of the no-holds-bar journalism has started unveiling its face.
 
Media, which was irresponsible enough to reveal the identity of the MMS victim of DPS RK Puram through indirect suggestions and shots, is hiding its face today. I can understand the plight of the female journalists (of which I know one couple very well), and I consider them victims too.
 
But these incidents, I hope, serve as an eye-opener to all those guardians of morality in the Fourth Estate who think they would not be judged by the parameters of judgment they set for others.
 
They were proved wrong - thanks to the growing abuse of technology and increasing critical understanding of media's functioning among
the media's users. Taking lessons from such mistakes, it seems, the recent Delhi's bomb blast was given quite a sensible coverage this time.
 
Though Jagran seemed settling its own scores on the tragedy, most of the other channels tried to mind their words. Aaj Tak took the lead in restraining itself from fishing in troubled water and others did not hesitate to follow.
 
These days, we hear a lot about development journalism. What does this term mean?
 
The term is simple. This is a kind of journalism which deals with the issues pertaining to the development of the nation as a whole (not just its over-fed urbanised middle class viewers and their make-believe problems) be it urban poor, or its hilly, mofussil and rural segments.
 
This term has gained currency in the past few years because of the advent of private players in the television news business. It is often complained that news media, because of its commercial compulsions of circulation and TRPs, do not accommodate the issues of development journalism.
 
It overlooks the issues related to the 70 per cent of India. Hence, a strong case in favour of development journalism exists.

Jun 5, 2008

एक किस्सा यह भी

श्रीलाल शुक्ल को दिए जाने वाला पद्मभूषण रेल से ही गायब हो गया। इस देश में जहां सच रोज़ हवा में गुम-सा जाता है और गुम जाती हैं संवेदनाएं, वहां एक लेखक को दिया जाने वाला पद्मभूषण रास्ते से कहीं खो जाता है तो भला किसी को क्या फर्क पड़ेगा? हमारे - आपके जैसे लोग लेख लिखेंगें या ब्लाग पर दो शब्द लिखेंगे। गाड़ी जैसी चल रही है, वैसी ही चलेगी।

राम जी की जय हो।

Jun 2, 2008

बड़ा कौन-अपराध या हंसी?

सोचने की बात यह भी है कि हंसी और अपाराध- इन दोनों में से कौन सी चीज़ दर्शक को ज़्यादा लुभाती है। टीवी चैनल चलाने वाले पहले अपराध को अपनी रोज़ी-रोटी का सबसे बड़ा सिक्का माने हुए थे। अब हंसी भी इसमें शामिल हो गई है। लेकिन इन दोनों हथियारों में सबसे कामगर हथियार है कौन सा, मैं इस सवाल का जवाब तलाश रही हूं।