Jul 1, 2010

हम लोग


चिड़िया की खुशी का विस्तार

उसके आकार से होता है कहीं ज्यादा

लाल बत्ती होने के सेकेंड भर पहले

पार कर ली सड़क

खुश हो लिए

पानी जाने से पहले बचा लिया बालटी में

भोर तक के लिए पानी

सेल खत्म होने के ठीक पहले

खरीद ली

हमेशा मांगती ननद के लिए साड़ी

बेटे के लिए चमकती नकली कार

सिलेंडर खत्म होने से ठीक पहले बना लिया खाना

जोड़ ली ताकत रात में फिर से पति से पिटने के लिए

 

चिड़िया इसी बचत में पूरी उम्र गुजार जाती है

चिडिया कब जानती है

भेड़िया तो यही चाहता है

चिड़िया की चाहतों का संसार

उसकी फुदकन जितना ही हो

लेकिन जरूरी नहीं

कि भेड़िया भी हमेशा सही ही हो

5 comments:

राजेश उत्‍साही said...

वर्तिका जी आप अपनी कविता में इतना चौंकाती क्‍यों हैं। बहरहाल कविता बहुत कुछ कहती है।

स्वाति said...

aapki kavita achhi lagi vartika ji...

Mukesh Kumar Sinha said...

ek badhiya rachna......satya ke kareeeb!!

संजय पाराशर said...

कि हमेशा भेड़िया सही ही हो.....
thik....

nilesh mathur said...

बहुत सुन्दर और संवेदनशील रचना है, बेहतरीन! देर से आने के लिए माफ़ी