Jun 19, 2009

लिखा जो खत मैनें

कोशिश सिर्फ इतनी थी

लिफाफे में बंद कर खत भेजूं

चंद लफ्ज़ हों

चंद कतरे छिटकती जिंदगी के।

बहुत बंद किया लिफाफे को मैनें

लगा दिए तमाम औजार

अपनी शक्ति

पर लिफाफा भारी हो ही गया

उससे झरने लगे

मेरे मन के मलमली पत्ते - यहां-वहां

अब खुला खत कैसे भेजूं ?

6 comments:

श्यामल सुमन said...

कम शब्दों में आपने भरा है कोमल भाव।
आसानी से छोड़ता मन पर बहुत प्रभाव।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.

परमजीत बाली said...

सुन्दर एहसास।
बहुत बढिया!

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

वर्तिका नन्दाजी,

"पर लिफाफा भारी हो ही गया

उससे झरने लगे

मेरे मन के मलमली पत्ते - यहां-वहां

अब खुला खत कैसे भेजूं ?"

बहुत ही सुन्दर रचना, पढकर आत्मविभोर हो गया।

आभार।

हे प्रभु यह तेरापन्थ

मुम्बई टाईगर

महेन्द्र मिश्र said...

वर्तिका जी आपकी रचना बेहद अच्छी लगी . आप निरंतर लिखती रहे. धन्यवाद.
आपकी रचना पढ़ कर मुझे ये गाना याद आ गया है .
लिखा जो ख़त तुझे ....वो

M Verma said...

खुला खत कैसे भेजूं ?
ज़ज्बात को इतने करीने से सजाया है. वाह – बहुत खूब

Navnit Nirav said...

sari batein ek hi khat mein undelna kahan tak tarksangat hai. prayas yahi ho ki khat niyamit antaral par likhe aur bheje jayein.Agar aisa nahi ho paye to phir iski kya ahmiyat rah jayegi........
Achchhi rachna hai aapki. Pasand aayi.
Navnit Nirav