Apr 25, 2010

एक ख्वाब की कब्रगाह


 

लो मर गई मरजानी

तब भी चैन नहीं

देह से झांक कर देख रही है तमाशा

कुनबुना रहे हैं पति

बेवजह छूट गया दफ्तर सोमवार के दिन ही

बच्चों की छटपटाहट

काश मरतीं कल शाम ही

नहीं करनी पड़ती तैयारी टेस्ट की

 

अब कौन लाए फूलों की माला इस तपती धूप में

नई चादर

कौन करे फोन

कि आओ मरजानी पड़ी है यहां

देख जाओ जाने से पहले कि

तुम्हें पता लगेगा नहीं

वो मरी कि मारी गई

 

मरजानी जानती है

नौकरानी को नहीं मिल रहा

हल्दी का पैकेट

पति को अपनी बनियान

बेटे को अपनी छिपाई सीडी

कैसे बताए मरजानी

अलमारी के किन कोनों में

सरकी पड़ी हैं चीजें

 

मरजानी तो अभी है

पुराने कफन में

कि मौत से पहले

गर तैयार कर लिया होता बाकी का सामान भी खुद ही

तो न होता किसी का सोमवार बेकार

 

कौन जाने

आसान नहीं होता मरजानी होना

चुपके से मरना

हौले-हौले मरना

दब-दब कर मरना

और मरना

ये मरना सोमवार को कहां हुआ

मरना तो कब से रोज होता रहा

मरजानी को खबर थी

घर की दीवारों को

रंगों को

चिटकनियों को

बर्तनों को

गीले तकियों को

बस उसे ही खबर नहीं थी

जिसका हो गया सोमवार बेकार

9 comments:

Sonal Rastogi said...

उफ़ दिल छू गई सच्चाई , आज के भौतिक युग में शायद यही होना है रिश्तों के बीच इतनी खाई आ गई है की लोगो का मरना भी वीकेंड का इंतज़ार करेगा

Sumit Singh said...

बेशक मरजानी की तकलीफ़ पर पैनी निगाह डाली है आपने। किसी स्त्री के मुर्दा होने के पीछे का सच... जिसे हम देख कर भी अनमना बने रहते हैं। ये पड़ताल जारी रखिए... शुभकामना!!

वन्दना अवस्थी दुबे said...

मरजानी तो अभी है
पुराने कफन में
कि मौत से पहले
गर तैयार कर लिया होता बाकी का सामान भी खुद ही
तो न होता किसी का सोमवार बेकार
उफ़!!! कितनी एक जैसी व्यथा है सबकी.... रोमांच हो आया मुझे तो..एक-एक शब्द भीतर तक उतरता चला गया..

दिलीप said...

bahut hi sundar abhivyakti bhavuk kar dene wali...

http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

tarav amit said...

मरी नहीं मारी गई ...
ये हमारी विडम्बना है की आज भी मरजानी मारी जा रही है .. और हम उसका मरना देख रहे हैं ..
बहुत अच्छी रचना !

कविता रावत said...

कौन जाने
आसान नहीं होता मरजानी होना
चुपके से मरना
हौले-हौले मरना
दब-दब कर मरना
और मरना
ये मरना सोमवार को कहां हुआ
मरना तो कब से रोज होता रहा
मरजानी को खबर थी

Maut hi es sansar ka shaswat satya hai......
samvedan se bhari katu satya ka maarmik chitran.....

Aapko haardik shubhkamyen

कविता रावत said...

कौन जाने
आसान नहीं होता मरजानी होना
चुपके से मरना
हौले-हौले मरना
दब-दब कर मरना
और मरना
ये मरना सोमवार को कहां हुआ
मरना तो कब से रोज होता रहा
मरजानी को खबर थी

Maut hi es sansar ka shaswat satya hai......
samvedan se bhari katu satya ka maarmik chitran.....
Aapko haardik shubhkamyen

वन्दना said...

बस उसे ही खबर नहीं थी
जिसका हो गया सोमवार बेकार

इस हकीकत ने रौंगटे खडे दिये मगर सच को आईना दिखाती इस रचना के लिये मेरे पास शब्द कम पड रहे हैं।हर शब्द रूह की गहराइयों मे उतर गया।

seep ka sapna said...

vertica aapka lekhan bahut hi sahaj ..aas pas ki cheejo ko leker anayas prasfutit huahai ..aapki ye shally samanya vishay ko uch shkertak lejakerbahut gehre samvedansheel kstro mein manviyata ko aisai chatpatahat de jati hai ki firwah sayad sachet hojker hi vyavharkertahai ki sayad mere bare mein bhi koi aisa na sochle kuch apne mein sudhar keru
wah kya padhneke baad mujhme abhi tak baj raha hai mein uski khoj mein laga hun
aap bahut hi acha lekhan ker rehi hai aadhunki kavya mein aapka sthan avshyahi vasistyata dharan kerega .......