Mar 8, 2010

बहुत हुआ

 

बस

अब रंगों जैसा ही हो जाना है

घुल जाना है

 

पानी जैसे

बह जाना है

 

पहाड़ जैसे

टिक जाना है

 

शहर जैसे

चल पड़ना है

 

बर्तन जैसे

बन जाना है

 

रिश्ते जैसे

निभ जाना है

 

मर्द  जैसा

बेवफा होना है

 

सब कुछ होना आसान ही है शायद

पर औरत होना

खुद अपने जैसा होना !!!!!

 


2 comments:

हेमंत कुमार ♠ Hemant Kumar said...

वर्तिका जी,आपकी इस कविता को कई बार पढ़ा--हर बार इसका एक नया अर्थ सामने आया---और इन पंक्तियों ने तो बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर दिया---पर औरत होना खुद अपने जैसा होना !!!!! बेहतरीन कविता---

ओम पुरोहित'कागद' said...

वर्तिका जी,
वन्दे!
'आखर कलश'पर आपकी अच्छी कविताएं पढ़ कर आपके ब्लाग पर आया हूं।यहां भ्रमण कर खूब और भरपूर आनंद आया।अच्छी कविताओं के अलावा भी बहुत कुछ पढ़ने मिला।आप तो बहुआयामी व्यक्तित्व की मालकिन हैँ।आपका रचना संसार भी बहुआयामी है!बधाई हो।
आपको उचित लगे तो मेरे ब्लाग पर भी पधारेँ,अच्छा लगेगा।
http//www.omkagad.blogspot.com